Blog

Domain, Website, Hosting.

डोमेन: डोमेन एक यूनिक वेब एड्रेस होता है जो इंटरनेट पर किसी भी वेबसाइट को खरीदने के लिए तैयार होता है। ये वेबसाइट के पहचान के रूप में काम करता है और एक विशिष्ट पहचान प्रदान करता है।

एक डोमेन का यूआरएल (यूनिफ़ॉर्म रिसोर्स लोकेटर) के रूप में किया जाता है, जैसे वेब ब्राउज़र में एंटर करके वेबसाइट तक पहुंच जा सकता है। हर डोमेन एक अनूठा संयोजन होता है जिसमें एक या अधिक शब्दों का उपयोग होता है, जिसे अक्सर “डॉट” से अलग किया जाता है, जैसे कि .com, .org, .net, आदि।

हर वेबसाइट का एक डोमेन होता है जिसे उसका पहचान होता है और इंटरनेट पर उपयोग करना बनता है। डोमेन का चयन करते समय, व्यक्ति या संस्था को एक अद्वितीय, आकर्षण, और यादगार डोमेन चुनना चाहिए जो उनके व्यवसायिक या व्यक्तिगत उद्देश्यों को अनुकूल हो।

डोमेन खरीदने के लिए, आपको एक डोमेन रजिस्ट्रार से डोमेन रजिस्ट्रेशन करना होगा। डोमेन रजिस्ट्रार एक प्रकार की एजेंसी होता है जो डोमेन पंजीकरण सेवेन प्रदान करता है। आपको अपना पसंदीदा डोमेन के लिए एक उपलब्ध डोमेन नाम चुनना होगा और फिर उसे रजिस्टर करना होगा।

एक बार डोमेन पंजीकरण पूरा हो जाता है, आप डोमेन को अपनी वेबसाइट के होस्टिंग प्रदाता के सर्वर से जोड़ सकते हैं। इसके बाद, आपका डोमेन इंटरनेट पर अपलोड हो जाएगा और लोग आपकी वेबसाइट तक पहुंच जाएंगे जब वे डोमेन का उपयोग करेंगे।

डोमेन एक यूआरएल होता है और ये वेबसाइट ऑनलाइन उपस्थति को दर्शाती है। एक अनोखा और प्रभावशाली डोमेन चुनना महत्तवपूर्ण होता है क्योंकि ये आपके व्यवसायिक या व्यक्तित्व ब्रांड की पहचान बनाता है और आपको ऑनलाइन दुनिया में स्थिरता प्रदान करता है।

डोमेन के प्रकार:

  • शीर्ष-स्तरीय डोमेन (टीएलडी): टीएलडी सबसे ऊपर स्टार के डोमेन होते हैं और किसी भी डोमेन के एक्सटेंशन के रूप में काम करते हैं। कुछ प्रमुख टीएलडी में .com, .org, .net, .edu, .gov शामिल हैं।
  • देश-कोड शीर्ष-स्तरीय डोमेन (सीसीटीएलडी): सीसीटीएलडी विशेष देश या क्षेत्र को दर्शन के लिए बना दिए गए डोमेन होते हैं। ये देश या क्षेत्र के कोड के रूप में काम करते हैं, जैसे कि .in (भारत), .uk (यूनाइटेड किंगडम), .us (यूनाइटेड स्टेट्स), .au (ऑस्ट्रेलिया), आदि।
  • उपडोमेन: उपडोमेन मुख्य डोमेन के आला बनते हैं और एक अलग से यूआरएल के रूप में काम करते हैं। सबडोमेन को कुछ साथी डोमेन प्रदाता अपने मूल डोमेन के साथ प्रदान करते हैं, जैसे कि blog.example.com या shop.example.com।
  • प्रायोजित शीर्ष-स्तरीय डोमेन (एसटीएलडी): एसटीएलडी किसी विशेष उद्योग के लिए बनाए गए डोमेन होते हैं और किसी विशेष ब्रांड के लिए निश्चित किए जाते हैं। उदाहरन के लिए, .gov डोमेन सिर्फ सरकारी संस्थानों के लिए है और .edu डोमेन शिक्षा संस्थानों के लिए है।

ये कुछ प्रमुख डोमेन प्रकार हैं जो इंटरनेट पर उपलब्ध होते हैं। प्रतिक डोमेन प्रकार अपने-अपने उदेश्यों और उपायों के अनुकूल होता है और व्यावसायिक वेबसाइट के लिए सही डोमेन चुनना महत्वपूर्ण है।

.com – किसी भी व्यवसाय के लिए सबसे लोकप्रिय और व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त डोमेन एक्सटेंशन।

.net – तकनीकी या वेब-आधारित कंपनियों के लिए अच्छा है क्योंकि यह “नेटवर्क” शब्द से निकला है।

.org – गैर-सरकारी संगठनों या सूचनात्मक वेबसाइटों के लिए लोकप्रिय विकल्प, लेकिन व्यावसायिक उपयोग के लिए अनुशंसित नहीं।

.co – .com का नया और छोटा विकल्प और युवा पीढ़ी के अनुरूप।

.us, .uk, .in, आदि-देशों के लिए आरक्षित है।

वेबसाइट : वेबसाइट एक इंटरनेट पर एक या अधिक वेब पेजों का समूह होता है जो एक डोमेन के अंतरगत होता है। हर वेब पेज टेक्स्ट, ग्राफिक्स, मल्टीमीडिया एलिमेंट्स जैसे इमेज, वीडियो और ऑडियो को शामिल करता है जो एक विशिष्ट विषय पर जानकारी प्रदान करता है।

हर वेबसाइट के एक यूनिक एड्रेस होता है जो यूआरएल (यूनिफ़ॉर्म रिसोर्स लोकेटर) के रूप में जाना जाता है। यूआरएल एक वेब पेज को किसी भी वेब ब्राउज़र में दिखाने के लिए तैयार किया जाता है। वेबसाइट के वेब पेजों को एक साथ जोड़ने के लिए हाइपरटेक्स्ट लिंक का उपयोग होता है, जिसे उपयोगकर्ता अलग-अलग पेज तक जा सकते हैं।

वेबसाइटों प्रकार: वेबसाइटों के अलग-अलग प्रकार होते हैं जैसे कि:-

  • व्यक्तित्व ब्लॉग,
  • व्यवसायी वेबसाइट,
  • ई-कॉमर्स स्टोर,
  • सरकारी संस्थानों के वेबसाइट,

साथ ही काई अन्य। प्रत्यक्ष वेबसाइट का उद्देश्य अलग होता है और उनमें विभिन्न प्रकार के कंटेंट जैसी जानकारी होती है, व्यवसायिक उपस्थति, समान, सेवन, या मनोरंजन उपलब्ध होती है।

आज के समय में वेबसाइटों ने व्यपक रूप से व्यक्तित्व और व्यवसायी जीवन को परिवर्तन किया है और लोगो को अनेक सुविधाएं प्रदान करती है, जैसे कि जानकारी प्राप्त करना, समान खरीददना, व्यवसायी उपस्थति बढ़ाना, और सामाजिक संचार।

वेबसाइटों का निर्माण : वेबसाइटों का निर्माण और प्रकाशन कैसे किया जा सकता है। कुछ लोग वेब डेवलपमेंट लैंग्वेज जैसे कि HTML, CSS, और JavaScript का उपयोग करते हैं, जब कोई अन्य लॉग वेबसाइट बिल्डर और कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम (CMS) जैसे कि WordPress, Wix, या Shopify का उपयोग करते हैं।

वेबसाइट उपयोग: व्यक्तित्व ब्लॉग के लिए, लॉग अक्सर वर्डप्रेस जैसे सीएमएस का उपयोग करते हैं, जो उन्हें आसान से नई पोस्ट लिखते हैं और प्रकाशित करने की अनुमति देते हैं। व्यावसायिक वेबसाईटों के लिए, लोग अक्सर कस्टम वेब डेवलपमेंट और वेब डिज़ाइन की सुविधा का उपयोग करते हैं ताकि उनके वेबसाईट उनके व्यवसायियों को पूरा कर सकें।

वेबसाइटों का प्रकाशन और लाभ होना लोगो को विशेष जानकारी प्रदान करना, व्यावसायिक अवसर प्रदान करना, और सामाजिक संचार को बढ़ावा देने में मदद करता है। आज के समय में, वेबसाइटें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं व्यक्तित्व, व्यवहारिक, और सामाजिक जीवन में और अक्सर पहचान के रूप में भी काम करती हैं।

वेबसाइट डोमेन नेम: हर वेबसाइट में एक डोमेन नेम होता है जो उन्हें अलग और पहचान के रूप में पहचानता है। ये डोमेन नेम एक यूनिक एड्रेस होता है जो किसी भी वेब ब्राउजर में एंटर करके वेबसाइट तक पहुंच की अनुमति देता है। डोमेन नाम एक वेब होस्टिंग प्रदाता के द्वार प्रदान किया जाता है, जो वेबसाइट के फाइलों को इंटरनेट पर स्टोर और उपलबध बनाता है।

वेबसाइटों का प्रकाशन और लाभ होना लोगो को विशेष जानकारी प्रदान करना, व्यावसायिक अवसर प्रदान करना, और सामाजिक संचार को बढ़ावा देने में मदद करता है। आज के समय में, वेबसाइटें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं व्यक्तित्व, व्यवहारिक, और सामाजिक जीवन में और अक्सर पहचान के रूप में भी काम करती हैं।

होस्टिंग: होस्टिंग एक प्रकार की इंटरनेट सेवा है जिसमें आप अपनी वेबसाइट, एप्लिकेशन, या दूसरे ऑनलाइन कंटेंट को इंटरनेट पर अपलोड करते हैं। होस्टिंग के द्वारा आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन को इंटरनेट पर दिखाया जा सकता है और लोग हमें तक पहुंच कर आपके द्वार प्रदान की गई सुविधाओं का उपयोग कर सकते हैं।

याह कुछ तरह की सर्वर (सेवा) होती हैं जो आपके कंटेंट को स्टोर करते हैं और उन्हें इंटरनेट पर दिखाने के लिए तैयार रखते हैं। होस्टिंग का मुख्य उद्देश्य यह होता है कि आपके कंटेंट को इंटरनेट पर अपलोड किया जाना चाहिए और यूजर्स हमें तक पहुंच सकते हैं।

होस्टिंग के प्रकार होते हैं:

  • साझा होस्टिंग: इसमें आपकी वेबसाइट या एप्लीकेशन एक सर्वर पर दूसरी वेबसाइट पर एप्लीकेशन के साथ सहज किया जाता है। यदि दूसरी वेबसाइटों पर अधिक ट्रैफिक होता है तो आपकी वेबसाइट का प्रकाशन प्रभावी हो सकता है।
  • वीपीएस होस्टिंग (वर्चुअल प्राइवेट सर्वर): इसमे एक सर्वर को अलग-अलग वर्चुअल सर्वर में विभाजित किया जाता है। हर वर्चुअल सर्वर अपने आप में एक अलग सर्वर की तरह काम करता है। इसमें आपको अधिक नियंत्रण और सुविधा मिलती है क्योंकि आपका वर्चुअल सर्वर दूसरे वर्चुअल सर्वर से अलग होता है।
  • समर्पित होस्टिंग: इसमें आप एक पूरा सर्वर अपने लिए लेते हैं। यानि की, आपकी वेबसाइट या एप्लीकेशन सिर्फ एक ही सर्वर पर चलता है और आपके नियन्त्रण में होता है। ये मुख्य रूप से बड़े वेबसाईटन और एप्लिकेशन के लिए उपयुक्त होता है जहां अधिक संभावनाओं की गारंटी होती है।
  • क्लाउड होस्टिंग: क्लाउड होस्टिंग में, आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन के सर्वर पर फेल हो जाता है, जो एक साथ काम करता है। इस आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन को अधिक स्थिरता और सुरक्षा प्राप्त होती है, साथ ही यह स्केलेबिलिटी में भी मदद करता है, यानी कि आप अपनी वेबसाइट या एप्लिकेशन को आसान से बेहतर बना सकते हैं।
  • वर्डप्रेस होस्टिंग: यह एक विशेष प्रकार की होस्टिंग है जो वर्डप्रेस प्लेटफॉर्म पर आधारित वेबसाइटों के लिए विशेष रूप से तयार किया गया है। इसमें वर्डप्रेस के लिए अनुकूलित सर्वर, सुरक्षा, और अन्य सुविधाएं होती हैं जो वर्डप्रेस वेबसाइटों को तेजी से और स्थिर रूप से चलाने में मदद करती हैं।
  • प्रबंधित होस्टिंग: इसमे होस्टिंग प्रदाता आपकी वेबसाइट पर एप्लिकेशन के लिए सारा प्रबंधन करता है, जैसे कि सर्वर नियन्त्रण, सुरक्षा, सुविधाओं की नियन्त्रण, और प्रतिदिन के बैकअप का ध्यान रखना। ये प्रकृति आपका समय और कड़ी मेहनत बचाने में मदद करती है।
  • पुनर्विक्रेता होस्टिंग: पुनर्विक्रेता होस्टिंग में, आप एक होस्टिंग प्रदाता से सर्वर की स्थापना करते हैं और फिर इसे अलग-अलग छोटे होस्टिंग प्लान में विभाजित करके दूसरे लोगों को बेच सकते हैं। ये आपका एक व्यवसायिक मौका प्रदान करता है होस्टिंग सेवाओ का बिकरी करने के लिए।
  • नि:शुल्क होस्टिंग: कुछ होस्टिंग प्रदाता मुफ्त में होस्टिंग सेवा प्रदान करते हैं, लेकिन अक्सर इसमें कई सीमाएं होती हैं जैसे कि प्रतिस्पर्धा और अधिकार कार्य समय तक सीमित ग्रहण करने की आवश्यकता।
  • स्केलेबल होस्टिंग: स्केलेबल होस्टिंग में, आप अपनी वेबसाइट या एप्लिकेशन को आसान से बढ़ा सकते हैं, बिना किसी सर्वर या प्रणाली की सीमाओं के ये व्यावसायिक गतिविधि के लिए विशेष रूप से उपयुक्त होता है जहां अचानक ट्रैफिक का सामना किया जा सकता है।
  • डोमेन होस्टिंग: डोमेन होस्टिंग में, आप अपने डोमेन को सर्वर से जोड़ते हैं ताकि आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन इंटरनेट पर उपलब्ध हो सके। डोमेन होस्टिंग प्रदाता आपके डोमेन को सर्वर से जोड़ने की सुविधा प्रदान करता है।
  • ईमेल होस्टिंग: ईमेल होस्टिंग वह सेवा है जो वेब होस्टिंग कंपनियाँ प्रदान करती हैं, जिसमें आप अपनी वेबसाइट डोमेन का उपयोग करके अपने ईमेल पते बना सकते हैं। यह आपको एक पेशेवर और प्रोफेशनल लुक देता है, जैसे example@yourdomain.com। ईमेल होस्टिंग के जरिए आप ईमेल खातों को सेटअप, प्रबंधित और उपयोग कर सकते हैं, जो आपके व्यवसायिक या व्यक्तिगत उद्देश्यों के लिए उपयुक्त होते हैं।

सर्वश्रेष्ठ वेब होस्टिंग प्रदाताओं की सूची:

  • Hostinger
  • HostGator
  • GoDaddy
  • Bluehost
  • ionos
  • Cloudways
  • A2 Hosting
  • DreamHost
  • Namecheap
  • SiteGround

होस्टिंग का चयन करते समय, ध्यान देना महत्वपूर्ण है:

होस्टिंग चयन करते समय, यह महत्तवपूर्ण है कि आप अपनी वेबसाईट या एप्लिकेशन के लिए उचित होस्टिंग योजना चुनें जो आपके उद्देश्य और उपयोगकर्ताओं के अनुरूप हो। साथ ही, होस्टिंग प्रदाता का भी चयन महत्तवपूर्ण है, जिसे आपकी वेबसाइट पर सुरक्षा, स्थिरता, और सभी सुविधाओं का अच्छा ध्यान दिया जा रहा है।

  • स्टोरेज: आपके द्वारा चुनी गई होस्टिंग प्लान में कितना स्टोरेज प्रदान किया जाता है, और आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन के कंटेंट के अनुरूप होना चाहिए।
  • बैंडविड्थ: बैंडविड्थ यानी इंटरनेट ट्रैफिक को कितनी श्रेणियां में आपका होस्टिंग प्लान प्रदान करता है। अधिक बैंडविड्थ आपको अधिक ट्रैफिक संभालने की अनुमति देता है।
  • अपटाइम गारंटी: होस्टिंग प्रदाता द्वार दी गई ‘अपटाइम’ गारंटी का मूलानुमान क्या है, यानी कि सर्वर का कितना समय तक चल रहा है और कितना समय तक डाउन होता है। उच्च अपटाइम गारंटी आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन के लिए अवश्यक है।
  • सुरक्षा: होस्टिंग प्रदाता द्वार प्रदान की गई सुरक्षा सुविधाओं का मूल्यांकन करें, जैसे कि DDoS सुरक्षा, फ़ायरवॉल, और प्रतिदिन के बैकअप।
  • ग्राहक सहायता: होस्टिंग प्रदाता द्वार प्रदान की गई ग्राहक सहायता की किस प्रकार की सुविधा है, और क्या यह 24/7 उपलब्ध है।

होस्टिंग का चयन करते समय, आपको भी होस्टिंग प्रदाता द्वारा प्रदान किया जाएगा अन्य सुविधाओं का ध्यान देना चाहिए, जैसे:

  • कंट्रोल पैनल: होस्टिंग प्रदाता द्वार प्रदान की गई है कंट्रोल पैनल की सुविधा आपके सर्वर और होस्टिंग प्रबंधन में अधिक नियन्त्रण प्रदान करती है। प्रमुख कंट्रोल पैनल में cPanel और Plesk शामिल हैं।
  • ईमेल होस्टिंग: ईमेल होस्टिंग में कुछ होस्टिंग योजनाएं शामिल होती हैं, जिसे आप अपने डोमेन पर व्यक्तिगत ईमेल आईडी बना सकते हैं, जैसे कि contact@yourdomain.com
  • डेटाबेस समर्थन: आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन के लिए किस प्रकार का डेटाबेस समर्थन उपलब्ध है, जैसे कि MySQL, PostgreSQL, या MongoDB
  • एसएसएल प्रमाणपत्र: सुरक्षा के लिए, एसएसएल प्रमाणपत्र का प्रदान करना भी महत्वपूर्ण है, जो आपकी वेबसाइट को https प्रोटोकॉल पर लाता है और डेटा को सुरक्षित रखता है।
  • स्केलेबिलिटी: होस्टिंग प्रदाता द्वार प्रदान की गई सुविधाओं में से एक है कि कितनी आसानी से आप अपने होस्टिंग प्लान को बढ़ा सकते हैं अगर आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन का ट्रैफिक बढ़ जाता है।

होस्टिंग प्रणालियाँ और प्रदाताओं में अंतर देखकर, आपको होस्टिंग का चयन करना चाहिए, जो आपके व्यावसायिक उद्देश्यों को अनुकूल है और आपकी वेबसाइट या एप्लीकेशन के लिए सुरक्षित, तेज़, और स्थिरता प्रदान करता है।इंटरनेट पर अपनी उपस्थिति को मजबूती से स्थापित कर सकते हैं, और आपके व्यवसायी पेशेवरों के अनुरुप होस्टिंग प्लान चुनते हैं, आप अपनी वेबसाइट या एप्लिकेशन को सुरक्षित कर सकते हैं, तेजी से और स्थिर रूप से चलने में मदद प्राप्त कर सकते हैं।

होस्टिंग प्रदाता का चयन करते समय, सभी तथ्यों का ध्यान रखना आवश्यक है ताकि आप अपने व्यवसायिक उद्देश्यों को अनुकूल होस्टिंग प्राप्त कर सकें। होस्टिंग के प्रकार और प्रारूपों का चयन आपकी वेबसाइट या एप्लिकेशन की आवश्यकता और व्यावसायिक गतिविधि पर निर्भर करता है। सामान्य रूप से, अगर आप एक छोटा वेबसाईट या व्यवसायी ब्लॉग चला रहे हैं तो साझा होस्टिंग का उपयोग किया जा सकता है, जबकी बड़े व्यवसायिक या ई कॉमर्स स्थल पर समर्पित या क्लाउड होस्टिंग अधिक उपयोगी हो सकती है।

यह सुभी सुविधाओं का ध्यान रखकर आप होस्टिंग प्रदाता का चयन करके, आप अपने ऑनलाइन व्यवसाय को सफल बनाने में मदद प्राप्त कर सकते हैं। समयोजित विचारों से होस्टिंग का चयन करने पर आप अपने व्यावसायिक लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं।

आशा करता हू आप सभी को मेरे सभी ब्लोग्स पसंद आ रहे होंगे आप सभी का दिल से शुक्रिया। 🙂

 

 

 

Abhay Soni

I am Abhay Soni who has made his mark as a blogger, author, writer. He is found of exploring new places and cultures, which is why he got the chance to write this blogs & books. Thank You:)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected.
Blogging